सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में
Spread the love

सुपर कंप्यूटर क्या है, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में(2023) – क्या आपने कभी विचार किया है कि हमारे सामान्य जीवन में जो कंप्यूटर है, उससे भी ज्यादा शक्तिशाली मशीन हो सकती है? आज हम आपको सुपर कंप्यूटर की अद्भुत जगत में प्रवेश करवाएंगे, जहाँ कंप्यूटिंग की क्षमताएं सामान्य सीमाओं को छूने जाती हैं।

सुपर कंप्यूटर वह उपकरण है जिसकी गणना क्षमता साधारण कंप्यूटरों की तुलना में हजारों बार अधिक है। इसका अर्थ है कि यह सिर्फ सेकंडों में ही करोड़ों गणनाएँ पूरी कर सकता है!

क्या आपने कभी विचार किया है कि इसके परिणाम हमारे रोजमर्रा के जीवन पर कैसे हो सकते हैं?



सुपर कंप्यूटरों का प्रमुख उपयोग वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग के जटिल समस्याओं के हल में किया जाता है, जहाँ अधिक गणना क्षमता की जरूरत होती है।

मगर, सुपर कंप्यूटर अखिर होते कौन हैं? और वे किस प्रकार से कार्य करते हैं?

तो आइए, देरी किए बिना हम शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि सुपर कंप्यूटर अखिर है क्या और उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी हासिल करते हैं।

सुपर कंप्यूटर क्या है ? – हिंदी में सुपर कंप्यूटर के बारे में 

सुपर कंप्यूटर क्या है , विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में महासंगणक, जिसे सुपर कंप्यूटर भी कहते हैं, वह अत्यधिक प्रदर्शन वाली मशीन होती है जो विशाल मात्रा में गणनाएं कर सकती है और विशाल डेटा को प्रसंस्करित कर सकती है।

1964 में, 12 अप्रैल को पहला सुपर कंप्यूटर तैयार हुआ था। इस मशीन का नाम “आईबीएम स्ट्रेच” था, और इसे $7 मिलियन अमरीकी डालर की लागत में बनाया गया था (जो आज के समय में $49 मिलियन अमरीकी डालर के बराबर है)। इसकी प्रोसेसिंग गति 2.4 मेगाफ्लॉप्स थी, अर्थात् यह प्रति सेकंड में 2.4 मिलियन फ्लोटिंग-पॉइंट संचालन कर सकता था।

सुपर कंप्यूटर को समझने से पहले अगर हम बुनियादी तौर पर समझ लें कि कंप्यूटर वास्तव में क्या है, तो यह समझाना और भी साधारण हो जाएगा। कंप्यूटर एक ऐसी सामान्य-उद्देश्य की मशीन है जो जानकारी (डाटा) को प्राप्त करता है, उसे संग्रहित करता है, उसे संसाधित करता है और अंततः कुछ निष्कर्ष पर पहुंचाता है जो उसके द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में जब हम सुपर कंप्यूटर की चर्चा करते हैं, तो इसे सिर्फ एक तेज और बड़ा कंप्यूटर मानना सही नहीं है। यह अपने विशिष्ट तरीके से काम करता है। जहाँ एक सामान्य कंप्यूटर अकेला कार्य (serial processing) करता है, सुपर कंप्यूटर समानवर्ती प्रक्रिया (parallel processing) का उपयोग करके एक ही समय में कई कार्यों को संचालित करता है। इससे वह एक ही समय में अनेक कार्यों को संपन्न कर सकता है।



सुपर कंप्यूटर वह मशीन होती है जो वर्तमान में सबसे उच्च कार्यान्वयन दर पर कार्य करती है। हिंदी में इसे ‘महासंगणक’ के नाम से जाना जाता है। तो आखिरकार, सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ होता है?

पारंपरिक तरीके से अगर हम देखें, तो सुपर कंप्यूटरों का प्रयोग अधिकतर वैज्ञानिक और अभियांत्रिकी अनुप्रयोगों में होता है, जिससे ये विशाल डेटाबेसेस को संचालित कर सकें और बड़ी संख्या में गणनात्मक संचालन भी कर सकें। यदि प्रदर्शन की बात की जाए तो ये सामान्य कंप्यूटरों की तुलना में हजारों बार अधिक तेज और सटीक कार्य करते हैं।

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में  सुपर कंप्यूटर की प्रदर्शन क्षमता को FLOPS में मापा जाता है, जिसका अर्थ है ‘floating-point operations प्रति सेकंड’। इसका सीधा मतलब है कि जिस कंप्यूटर में अधिक FLOPS की संख्या हो, वह उतना ही अधिक शक्तिशाली होता है।

  1. कंप्यूटर का नाम: सुपर कंप्यूटर
  2. वैश्विक स्तर पर प्रमुख सुपर कंप्यूटर: Fugaku, Sunway TaihuLight, Summit, Sierra आदि।
  3. भारतीय प्रमुख सुपर कंप्यूटर: PARAM Siddhi-AI, Pratyush, Mihir आदि।
  4. सुपर कंप्यूटर की अनुमानित मूल्य: सैंकड़ों करोड़ रुपये
  5. भारत का प्रथम सुपर कंप्यूटर: PARAM 8000
  6. विश्व का पहला सुपर कंप्यूटर: इल्लीआक 4
  7. अब तक का सबसे तेज सुपर कंप्यूटर: अमेरिकी सुपरकंप्‍यूटर Frontier

Read More :- डोमेन कैसे खरीदें – गोडैडी और बिगरॉक से

सुपर कंप्यूटर का प्रयोग कहाँ किया जाता है?

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में सुपर कंप्यूटर का विविध उपयोग होता है। उदाहरण स्वरूप, इसे खगोलशास्त्र और पारमाणु विज्ञान जैसे अनुसंधान क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है। इसका प्रयोग इंजीनियरिंग और डिजाइन जैसे अन्य क्षेत्रों में भी किया जाता है।

सुपर कंप्यूटर का प्रयोग से हमें कई लाभ मिलते हैं। उदाहरण स्वरूप, इंजीनियरिंग और डिजाइन प्रक्रियाओं में उच्च स्तर की कंप्यूटिंग, जटिल सिमुलेशनों को तेज करने के लिए प्रोध गुणवत्ता वाले GPU प्रोसेसिंग, या बड़े सिमुलेशन मॉडलों का समर्थन, जिसमें अधिक मेमोरी और जटिल डेटा इनपुट/आउटपुट की आवश्यकताएँ होती हैं, शामिल हैं। अगर आप और भी जानना चाहते हैं तो क्वांटम कंप्यूटर के विषय में अवश्य पढ़ें।

सुपर कंप्यूटर क्या है, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में – सुपर कंप्यूटर कैसे काम करता है?

सुपर कंप्यूटर उन कंप्यूटरों में गिने जाते हैं जिनमें विशेष रूप से बड़ी मेमोरी और उच्चतम प्रोसेसिंग गति होती है।

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में  अधिकतम गणना क्षमता प्राप्त करने के लिए, इसे समानांतर प्रक्रिया द्वारा चलाना पड़ता है।

जब प्रोसेसर को कोई आदेश दिया जाता है, तो वह उसे क्रमिक रूप में संचालित करता है, और वह एक समय में सिर्फ एक आदेश पर काम कर सकता है।

हालांकि, जब हम प्रोसेसर को दो आदेश एक साथ भेजते हैं, तो इससे वह दोनों आदेशों को समुचित रूप में चला सकता है, जिससे उसकी प्रदर्शन में बढ़ोत्तरी होती है। इस प्रक्रिया को “समानांतर प्रसंस्करण” नाम से जाना जाता है।

Supercomputer में कोन सा Operating System इस्तमाल होता है?

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में आपको हैरानी हो सकती है की सुपर कंप्यूटर में भी वही ऑपरेटिंग सिस्टम चलते हैं जो हमारे सामान्य PC में चलते हैं। फिर भी, हमें यह जानकर समझ में आता है की आधुनिक सुपर कंप्यूटर असल में सामान्य कंप्यूटरों और वर्कस्टेशनों के समूह या ‘क्लस्टर’ होते हैं।




कुछ समय पहले तक, सुपर कंप्यूटरों में Unix ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग प्रमुख रूप से होता था। लेकिन अब, इसकी जगह Linux ले चुका है, जो कि खुला स्रोत (open-source) है। चूंकि सुपर कंप्यूटर मुख्य रूप से वैज्ञानिक समस्याओं पर काम करते हैं, उनके अनुप्रयोगों को पारंपरिक वैज्ञानिक प्रोग्रामिंग भाषाओं, जैसे कि Fortran में, या अधिक लोकप्रिय आधुनिक भाषाओं, जैसे कि C और C++ में तैयार किया जाता है।

सुपर कंप्यूटर की विशेषताएं

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में सामान्य कंप्यूटरों की गणना क्षमता को मापने में अक्सर MIPS (लाख निर्देश प्रति सेकंड) का उपयोग होता है। इससे मूल निर्देश, जैसे कि पढ़ना, लिखना, संग्रहित करना आदि, को प्रोसेसर द्वारा कितनी तेज़ी से संचालित किया जा सकता है, इसे मापा जाता है। दो कंप्यूटरों की तुलना करने के लिए उनके MIPS मानों की तुलना की जाती है।

सुपर कंप्यूटरों की गणना क्षमता का मापन थोड़ा विभिन्न होता है। क्योंकि इन पर प्रमुख रूप से वैज्ञानिक गणनाएँ की जाती हैं, इसलिए इनकी क्षमता को floating point operations per second (FLOPS) में मापा जाता है।

सुपर कंप्यूटर की कीमत

सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में सुपर कंप्यूटरों की मूल्य विशेषतः ऊँची होती है। जैसे, एनईसी द्वारा अंदर-से तैयार किए गए सुपर कंप्यूटरों का मूल्य अधिकतर लाखों डॉलर में होता है, और उसके साथ ही उनके सबसे आधारिक मॉडल की कीमत भी करीब $100,000 (अभियानत: ₹8,322,000) होती है।

सुपर कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ?

अगर आप कंप्यूटरों के इतिहास में गहरा नजर डालेंगे, तो आपको स्पष्ट होगा कि इसमें किसी भी एक व्यक्ति का विशेष योगदान नहीं है। वास्तव में, अनेक लोगों ने विभिन्न समय-अवस्थाओं में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। और इसका परिणाम स्वरूप हमें आज के अद्भुत मशीनों का अहसास होता है।

लेकिन जब हम सुपर कंप्यूटर की चर्चा करते हैं, तो Seymour Cray (1925–1996) का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है। उनके सुपर कंप्यूटर में अत्यधिक योगदान के कारण उन्हें अक्सर ‘सुपर कंप्यूटर के पिता’ के रूप में स्मृत किया जाता है।

Read More :- क्वांटम कंप्यूटर क्या है, कैसे काम करता है, उपयोग और मूल्य हिंदी में

सुपर कंप्यूटर का इतिहास (History of Supercomputer in Hindi)

कंप्यूटर की उत्पत्ति को देखते हुए, यह स्पष्ट है कि इसमें सिर्फ एक व्यक्ति का योगदान नहीं है। विभिन्न काल में कई विद्वानों ने कंप्यूटर की सतत वृद्धि और विकास में अपनी अद्वितीय भूमिका निभाई है। और इसी सहयोग और संगठन से आज हमारे पास इतने उन्नत सुपर कंप्यूटर मौजूद हैं।

अब, आइए हम जानते हैं सुपर कंप्यूटर के संक्षेप में इतिहास को, जो निम्नलिखित रूप में है।

1946: जॉन मौचली और जे। प्रेस्पर एकर्ट ने यूनिवर्सिटी ऑफ पेन्सिलवेनिया में ENIAC (इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर और कंप्यूटर) का निर्माण किया। यह पहला सामान्य उद्देश्य वाला, इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर था। इसकी लंबाई करीब 25 मीटर (80 फीट) और वजन करीब 30 टन था। इसे सैन्य-वैज्ञानिक समस्याओं को हल करने के लिए तैयार किया गया था, और यह सबसे पहला वैज्ञानिक सुपर कंप्यूटर माना जाता है।

1953: आईबीएम ने सबसे पहला सामान्य उद्देश्य वाला मेनफ्रेम कंप्यूटर विकसित किया, जिसे IBM 701 कहा जाता है (इसे डिफेंस कैलकुलेटर भी कहा जाता है)। और करीब 20 मशीनें विभिन्न सरकारी और सैन्य एजेंसियों को बेच दी गई थी।

यह 701 सबसे पहला तैयार-बना सुपर कंप्यूटर था। बाद में, आईबीएम के एक अभियंता जीन अमदाहल ने इसे पुनर्निर्माण किया और इसके उन्नत संस्करण को IBM 704 के नाम से पहचाना गया। यह एक ऐसी मशीन थी जिसमें करीब 5 KFLOPS (5000 FLOPS) की गणना गति थी।

1956: आईबीएम ने Los Alamos National Laboratory के लिए ‘Stretch’ सुपर कंप्यूटर का विकास किया। प्रायः 10 वर्षों तक यह विश्व का सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर रहा।सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में

1957: सेमोर क्रे ने इस वर्ष Control Data Corporation (CDC) की स्थापना की। उन्होंने तेज़, ट्रांजिस्टर आधारित, उच्च प्रदर्शन वाले कंप्यूटरों का विकास प्रेरित किया, जिसमें CDC 1604 (1958 में पेश किया गया) और 6600 (1964 में लॉन्च हुआ) प्रमुख थे। इन मशीनों ने आईबीएम के मुख्यकंप्यूटर विकास पर प्रभुत्व को चुनौती दी।




1972: क्रे ने Control Data को त्यागकर अपनी नई कंपनी Cray Research की शुरुआत की। उन्होंने high-end कंप्यूटर्स का निर्माण किया, जिसे पहला असली सुपर कंप्यूटर माना जाता था। उनका मुख्य ध्यान यह था कि मशीन के भीतर के संबंधों को कैसे कम किया जा सके ताकि मशीन की गति को बढ़ाया जा सके। प्रारंभिक क्रे कंप्यूटर्स आमतौर पर C-आकार के होते थे, जिससे उन्हें अन्य कंप्यूटर्स से अलग दिखाया जा सके।

1976: पहला Cray-1 सुपर कंप्यूटर Los Alamos National Laboratory में स्थापित किया गया। इसकी उस समय की गति 160 MFLOPS थी।

1979: क्रे ने अब तक के अपने सबसे तेज़ मॉडल, Cray-2 को विकसित किया। इसमें आठ प्रोसेसर थे और इसकी प्रदर्शन क्षमता 1.9 GFLOP थी। इस मॉडल में तारों के कनेक्शन को पहले के 120 सेमी से घटाकर 41 सेमी (लगभग 16 इंच) पर लाया गया।

1983: Thinking Machines Corporation ने अद्वितीय और विशाल संख्या में समानांतर प्रोसेसिंग क्षमता वाले Connection Machine का निर्माण किया, जिसमें लगभग 64,000 समानांतर प्रोसेसर्स का उपयोग किया गया था।

1989: Seymour Cray ने एक और नई कंपनी की स्थापना की, जिसका नाम था Cray Computer। वहां उन्होंने Cray-3 और Cray-4 कंप्यूटर्स का विकास किया।

1990: रक्षा में व्यय की कटौती और शक्तिशाली RISC वर्कस्टेशन के विकास के कारण, जैसे कि Silicon Graphics द्वारा, सुपर कंप्यूटर निर्माताओं पर गंभीर धमकी बन गई थी।

1993: फुजित्सु न्यूमेरिकल विंड टनल ने 166 वेक्टर प्रोसेसर्स का उपयोग करके दुनिया का सबसे तेज कंप्यूटर बनाया।

1994: थिंकिंग मशीन्स ने दिवालिया संरक्षण के लिए मामला दर्ज करवाया।

1995: Cray Computer भी वित्तीय समस्याओं का सामना कर रहा था, इसलिए उन्होंने भी दिवालिया संरक्षण के लिए मामला दर्ज किया। और उसके बाद, अचानक Seymour Cray की 5 अक्टूबर, 1996 को सड़क दुर्घटना में मौत हो गई।

1996: Cray Research (Cray की मौलिक कंपनी) को Silicon Graphics ने खरीद लिया।

1997: ASCI Red, एक सुपर कंप्यूटर जिसे Intel और Sandia राष्ट्रीय प्रयोगशाला द्वारा Pentium प्रोसेसर का उपयोग करके बनाया गया, बना दुनिया का पहला टेराफ्लोप (TFLOP) सु

1997: IBM का Deep Blue सुपर कंप्यूटर ने शतरंज खिलाड़ी Gary Kasparov को मात दी।

2008: Jaguar सुपर कंप्यूटर, जिसे Cray Research और Oak Ridge राष्ट्रीय प्रयोगशाला द्वारा तैयार किया गया, बना दुनिया का पहला पेटाफ्लोप (PFLOP) वैज्ञानिक सुपर कंप्यूटर। बाद में जापान और चीन के मशीनों ने इसे पीछे छोड़ दिया।

2011–2013: Jaguar को व्यापक रूप से और महंगे खर्च से उन्नत किया गया, और इसका नाम बदलकर Titan रखा गया। बाद में, यह विश्व का सबसे तेज सुपर कंप्यूटर बना, जिसे फिर चीन का Tianhe-2 ने प्रथम स्थान से हटा दिया।

2014: Mont-Blanc, एक यूरोपीय संघ, ने घोषणा की कि वे एक ऐसे उच्च-प्रदर्शन सुपर कंप्यूटर को तैयार कर रहे हैं जो ऊर्जा कुशल स्मार्टफोन और टैबलेट प्रोसेसर्स पर आधारित है।

2017: चीनी विज्ञानियों ने घोषणा की कि वे एक प्रोटोटाइप एक्साफ्लोप सुपर कंप्यूटर तैयार कर रहे हैं, जो Tianhe-2 पर आधारित है।

2018: चीन वर्तमान में सबसे तेज सुपर कंप्यूटर बनाने की प्रतियोगिता में आगे है, और उनके द्वारा बनाया गया Sunway TaihuLight अभी विश्व में सबसे तेज सुपर कंप्यूटर है।

2022: अमेरिकी सुपर कंप्यूटर ‘Frontier’ को विश्व का सबसे उत्तम सुपर कंप्यूटर के रूप में माना गया है। यह वह पहला कंप्यूटर है जो एक्सास्केल क्षमता में पहुंचा है, अर्थात यह एक सेकंड में क्विनटिलियन गणनाएं कर सकता है। इसकी अद्वितीय गति को सोचा भी नहीं जा सकता है। ‘Frontier’ ने जापान के सुपर कंप्यूटर फुजित्सु को पीछे छोड़कर यह स्थान प्राप्त किया है।

दुनिया का सबसे शक्तिशाली सुपर कंप्यूटर

हर देश अपनी computing शक्ति में सुधार करने में लगा होता है, ताकि वह शीर्ष पर रह सके, लेकिन शीर्ष स्थान तो सिर्फ एक ही होता है। सुपरकंप्यूटिंग की उच्चतम प्रदर्शन क्षमता समय-समय पर परिवर्तित होती रहती है। इसे और भी स्पष्टता से समझाया जा सकता है कि सुपर कंप्यूटर वह मशीन है जो “हमेशा अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता में ही कार्य करता है।”



प्रतिस्पर्धा की वजह से सुपरकंप्यूटिंग में रुचि और भी बढ़ जाती है, और यह विज्ञानिकों और अभियांत्रिकों को प्रेरित करता है ताकि वे अधिक और अधिक गणना शक्ति की ओर अध्ययन करते रहें। आइए जानते हैं विश्व के शीर्ष 5 सुपर कंप्यूटर्स कौन-कौन से हैं:

  1. Frontier (अमेरिका)
  2. Sunway TaihuLight (चीन)
  3. Tianhe-2 (चीन)
  4. Piz Daint (स्विट्जरलैंड)
  5. Gyoukou (जापान)
  6. Titan (अमेरिका)

भारत के सुपर कंप्यूटर का नाम

भारत का पहला सुपर कंप्यूटर परम 8000 था, जिसे 1991 में आरंभ किया गया था। भारत में भी अनेक सुपर कंप्यूटर्स हैं जिन्होंने अनेक शोधों में योगदान दिया है। आइए जानते हैं भारत के प्रमुख सुपर कंप्यूटर्स के नाम:

  1. SahasraT (Cray XC40)
  2. Aditya (IBM/Lenovo System)
  3. TIFR Colour Boson
  4. IIT Delhi HPC
  5. Param Yuva 2

इन सुपर कंप्यूटर्स का इस्तेमाल विभिन्न शोधों और गणना कार्यों में किया जाता है। भारत इस दिशा में निरंतर प्रगति कर रहा है और आने वाले समय में और भी उन्नत सुपर कंप्यूटर्स का विकास होने की संभावना है।

आज आपने क्या सीखा

मुझे विश्वास है कि मैंने आपको सुपर कंप्यूटर के विषय में विस्तार से जानकारी प्रदान की है और मुझे लगता है कि अब आपको इसकी स्पष्टता हो गई होगी। अगर आपके पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव हैं, तो कृपया नीचे टिप्पणी करें। आपकी प्रतिक्रिया से हमें मार्गदर्शन मिलेगा।



सुपर कंप्यूटर क्या है?, विशेषताएं, प्रकार, उपयोग और उदाहरण हिंदी में आपकी प्रतिक्रियाएँ हमें नई दिशा और बेहतरी की ओर मार्गदर्शन करती हैं। अगर आपको यह लेख सुपर कंप्यूटर पर उपयोगी लगा और आप महसूस करते हैं कि इससे आपको नई जानकारी प्राप्त हुई, तो कृपया इसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स जैसे Facebook, Twitter आदि पर शेयर करना न भूलें। इससे और अधिक लोगों तक जानकारी पहुंचेगी।

Thanks For Reading.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *