You are currently viewing GST Kya Hai? Types of GST

GST Kya Hai? Types of GST

दोस्तों आज हम आपको GST Kya Hai? के बारे मे बताने वाले है | GST ऐसा टैक्स है, जो किसी सामान को खरीदने या किसी सर्विस को खरीदने पर चुकाना पड़ता है। यह 1 जुलाई 2017 को भारत मे लागू हुआ  इसकी बहुत सी बातें, लोगों को समझ में नहीं आतीं। लोगों की इस समस्या को दूर करने के लिए हमने यह पोस्ट तैयार किया है। हम जानेंगे कि GST Kya Hai? GST Full Form क्या है ? GST Registration Login कैसे करे। Types of  GST  आदि ये सभी जानकारी आज हम  पोस्ट के माध्यम से आपको समझाने मे मदद करेंगे।

GST Kya Hai ?

GST means Goods and Service Tax: केंद्र सरकार के बड़े फैसलों में नोटबंदी के बाद जीएसटी की सबसे ज्यादा चर्चा होती है. नवंबर 2016 में सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया था, वहीं जुलाई 2017 से भारत सरकार ने GST लागू किया. जब हम कोई प्रॉडक्ट खरीदते हैं या फिर कोई सर्विस लेते हैं तो हमें उसका टैक्स देना होता है. GST की ‘एक देश, एक टैक्स’ व्यवस्था के ​तहत आपको एक ही टैक्स देना होता है.

GST की सबसे बड़ी विशेषता यही है कि किसी भी सामान या सर्विस पर इस टैक्स की दर पूरे देश में एक जैसी होती है. यानी देश ​के किसी हिस्से में मौजूद कस्टमर या कंज्यूमर को उस वस्तु या सेवा पर एक जैसा ही टैक्स देना होता है.GST Kya Hai?

GST Full Form

GST Full Form होता है- “Goods and Service Tax”, हिंदी में इसे “माल एवं सेवा कर” कहा जाता है

GST के प्रकार ( Types Of GST )

भारत मे चार प्रकार के GST लागू है।  ये भारत सरकार द्वारा लागू की गई है और उसी प्रकार लागू है जैसा भारत सरकार ने किया है।

Types Of GST

  • CGST (केंद्रीय माल एवं सेवा कर)
  • SGST (राज्य वस्तु एवं सेवा कर)
  • UTGST (केंद्र शासित प्रदेश माल एवं सेवा कर)
  • IGST (एकीकृत माल एवं सेवा कर)
  • CGST Full Form, meaning and features

CGST का Full Form होता है-Central Goods and Services Tax। केंद्र (भारत) सरकार को यह टैक्स मिलता है। यह जीएसटी टैक्स तब लगता है, जबकि किसी सामान (goods) या सेवा (service) का सौदा एक ही राज्य के दो व्यक्तियों या कारोबारियों के बीच होता है। ऐसे सौदों को राज्यान्तरिक आपूर्ति (inter-state supply) की श्रेणी में रखा जाता है। जैसे कि, दिल्ली के किसी व्यक्ति या कारोबारी ने दिल्ली के ही किसी व्यक्ति या कारोबारी को माल बेचा या भेजा हो। इस सौदे पर, माल खरीदने वाले कारोबारी को भारत सरकार को CGST चुकाना होगा। फिलहाल CGST की दर State GST (SGST) के बराबर ही है, और उसी के साथ ही इसे वसूला भी जाता है। GST Kya Hai?

यह वसूले गए GST, का वह हिस्सा होता है, जोकि केंद्र सरकार को मिलता है। 12 अप्रैल 2017 को लागू हुए THE CENTRAL GOODS AND SERVICES TAX ACT, 2017 के तहत यह टैक्स (CGST) वसूलने का अधिकार केंद्र सरकार को मिला है। GST Kya Hai?

  • CGST की दरें
माल CGST
आम खाद्य सामान जैसे चाय, नमक, मसाले, चीनी, आदि। 2.5%
प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ 6%
इलेक्ट्रॉनिक सामान 9%
कैपिटल गुड्ज़, प्रसाधन सामग्री, आदि। 14%
  • What is SGST? Full Form, meaning and features

SGST का फुल फॉर्म है State Goods and Services Tax। यह टैक्स उस राज्य सरकार को मिलता है, जहां पर वह माल बिकता है। यह टैक्स भी तभी लगता है जबकि किसी सामान (goods) या सेवा (service) का सौदा एक ही राज्य के दो व्यक्तियों के बीच होता है। यानी कि अगर किसी राज्य का व्यापारी अपने ही राज्य के दूसरे व्यापारी से कोई खरीद करता है तो  इस सौदे पर उसे राज्य सरकार को भी SGST भी चुकाना होगा। फिलहाल भारत में SGST की दर भी CGST की दर के बराबर ही है। संक्षेप में हम कह सकते हैं कि वस्तुओं और सेवाओं की राज्य के भीतर ही आपूर्ति (intra-state supplies) की स्थिति में SGST लगता है।

  • SGST लॉटरी टैक्स, लग्जरी टैक्स, वैट, परचेज टैक्स और सेल्स टैक्स जैसे विभिन्न राज्य-स्तरीय करों की जगह लेता है।
  • हालांकि, अगर माल का लेनदेन इन्टरस्टेट (राज्य के बाहर) है, तो SGST और CGST दोनों लागू होते हैं। लेकिन, अगर राज्य के भीतर वस्तुओं और सेवाओं का लेनदेन होता है, तो केवल SGST लगाया जाता है।
  • GST की दर दो प्रकार के GST में समान रूप से विभाजित है। उदाहरण के लिए, जब व्यापारी अपने राज्य के भीतर अपनी वस्तुओं को बेचते हैं, तो उन्हें SGST और CGST का भुगतान करना होगा। SGST से अर्जित राजस्व राज्य सरकार का है और CGST से राजस्व केंद्र सरकार का।
  • विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं का SGST समय-समय पर प्रकाशित सरकारी अधिसूचना पर निर्भर करता है।
  • SGST की दरें
माल SGST
आम खाद्य सामान जैसे चाय, नमक, मसाले, चीनी, आदि। 2.5%
प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ 6%
इलेक्ट्रॉनिक सामान 9%
कैपिटल गुड्ज़, प्रसाधन सामग्री, आदि। 14%
  • What is UTGST? Full Form, meaning and features

यूटीजीएसटी क्या है? UTGST का full form होता है-  Union Territory Goods and Services Tax। इसका हिंदी में अर्थ होता है- केंद्र शासित प्रदेश का माल एवं सेवा कर। यह वसूले गए GST, का वह हिस्सा होता है, जोकि केंद्र शासित प्रदेश (Union Terretory) को मिलता है। 12 अप्रैल 2017 को लागू हुए THE UNION TERRITORY GOODS AND SERVICES TAX ACT, 2017 के तहत यह टैक्स (CGST) वसूलने का अधिकार केंद्र सरकार को मिला है। GST Kya Hai?

भारत में, फिलहाल 8 केंद्र शासित प्रदेश (Union Territories) हैं-

  1. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली| National Capital Territory of Delhi (NCR)
  2. चंडीगढ़
  3. अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह
  4. दादर एवं नगर हवेली तथा दमन एवं दीव
  5. जम्मू एवं कश्मीर
  6. लक्षद्वीप
  7. लद्दाख
  8. पुडुचेरी

UTGST , दरअसल SGST के स्थानापन्न (substitute) के रूप में होता है। राज्यों के भीतर होने वाले सौदों में जिस तरह SGST लगता है, उसी तरह किसी केंद्र शासित प्रदेश की सीमाओं के भीतर होने वाले सौदों में UTGST लगता है। SGST की तरह ही UTGST भी, सीजीएसटी के साथ ही लगता है। और CGST के बराबर ही UTGST का भी प्रतिशत होता है। और यह आखिरकार, उस केंद्र शासित प्रदेश के खाते में जमा होता है, जिस प्रदेश के भीतर वह सौदा हुआ होता है। GST Kya Hai?

  • What is IGST? Full Form, meaning and features

इंटीग्रेटेड गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स एक प्रकार का GST है, जहाँ टैक्स माल और सेवाओं की इन्टरस्टेट सप्लाई पर लागू होता है। यह GST आयात और निर्यात की जाने वाली वस्तुओं और सेवाओं पर भी लगाया जाता है। IGST अधिनियम इसे नियंत्रित करता है, और केंद्र सरकार IGST के संग्रह के लिए जिम्मेदार है। एकत्रित IGST को समान रूप से केंद्र और राज्य सरकार के भागों में विभाजित किया जाता है। IGST का राज्य भाग उस राज्य को प्रदान किया जाता है, जहाँ माल और सेवाएँ प्राप्त होती हैं और बचा हुआ IGST केंद्र सरकार के पास जाता है।

उदाहरण के लिए, जब व्यापारी दो राज्यों के बीच सप्लाई करता है, तो इस मामले में IGST लगेगा।

  • IGST की दरें
माल  IGST
आम खाद्य सामान जैसे चाय, नमक, मसाले, चीनी, आदि। 5%
प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ 12%
इलेक्ट्रॉनिक सामान 18%
कैपिटल गुड्ज़, प्रसाधन सामग्री, आदि। 28%

 

GST ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन – GST Registration Online

Step-by-step Guide explaining GST Registration Process Online

  • सबसे पहले आपको इस Website पर जाना होगा|
  • उसके बाद आपको  Taxpayers (Normal) के नीचे Register Now के option पर click करना होगा|
  • उसके बाद page खुलेगा|
  • जिसमे आपको New Registration के option को select करके, अपनी जानकारी भरनी होगी|
  • उसके बाद image text को भर कर Proceed पर click कर देना है|
  • आपने अपनी जानकारी में Email id और Mobile no. लिखें है, उस पर आपको अलग अलग OTP प्राप्त होंगे| जो आपको अगले page पर सही-सही भरने होंगे|
  • उसके बाद Proceed के option पर click कर दे|
  • जैसे ही आप Proceed पर click करेंगे, आपको एक Temporarily Reference Number (TRN) मिलेंगे उसे Save कर ले|
  • जब तक आपका Registration पूरा नहीं हो जाता, ये TNR आपके बहुत काम आएंगे|
  • अगर आप वापस login in करना चाहते है, तो आप इन TRN के जरिये ही कर पाएंगे|
  • TRN Save करने के बाद Proceed पर click करते ही आप Next Page पर पहुंचेंगे|
  • आप होम पेज पर जाकर Taxpayer में “Register Now” पर क्लिक करके भी इस पेज तक पहुँच सकते हैं|
  • आपके सामने New Registration और Temporarily Reference Number (TRN) का option होगा|
  • अब आपको Temporarily Reference Number (TRN) को select करना है|
  • अब उसके नीचे TRN भर देना है और image text को भर कर Proceed के option पर click कर दे|
  • जिसके बाद आपके Mobile no. पर और Email id पर एक जैसा ही OTP आएंगा|
  •  उसे अगले page पर Mobile / Email OTP के कोलम में भर कर Proceed पर click कर दे|
  • इसके बाद आपके सामने आपकी Saved Application का Draft होगा||
  • जिसके Right side में दिख रहे Action के कोलम में Edit के option पर click करना है|
  • click करते ही आपको दस तरह के option दिखाई देंगे|
  • जिसमे आपको Document के हिसाब से Information भरनी पड़ेगी|
  • Save & Continue पर click करके आगे बढ़ जाए|
  •  जिसके बाद आपको 15 दिनों के अन्दर एक Acknowledgement Number दे दिया जाएगा| जिससे आप अपने GST Registration के Status को Check कर सकते है|

GST रजिस्ट्रेशन के लिए दस्तावेज

जीएसटी रजिस्ट्रेशन का प्रक्रिया पूरी करने के लिए ज़रूरी दस्तावेज नीचे दिए गए हैं:

  • पैन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बिज़नेस पता प्रमाण
  • डिज़िटल साइन
  • बैंक अकाउंट स्टेटमेंट और कैंसल किया गया चेक
  • इनकॉर्पोरेशन सर्टिफिकेट या बिज़नेस रजिस्ट्रेशन प्रमाण
  • निदेशक या प्रमोटर का पहचान प्रमाण, पता प्रमाण और फोटो
  • अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता से बोर्ड रिजॉल्यूशन और लैटर ऑफ ऑथराइज़ेशन

GST Registration Status की जांच कैसे करें

  •  https://services.gst.gov.in/services/arnstatus ओपन करे।
  • अब आप अपना Application Reference Number और कॅप्टचा टाइप करे|
  • फिर search बटन पर क्लिक करें।
  • अब आपके सामने GST Registration Status Display हो जायेगा।

GST रजिस्ट्रेशन की फीस

  • GST Registration के लिए गवर्नमेंट द्वारा कोई Fees चार्ज नहीं की जाती है|
  • कोई भी व्यक्ति बिना किसी चार्ज के GST Portal gst.gov.in पर जाकर  ऑनलाइन GST Registration कर सकता हैं|
  •  बड़े आकर के Businesses को  GST Practitioner, CA या GST Expert की Services लेनी पड़ती हैं और उनका रजिस्ट्रेशन भी CA के द्वारा ही किया जाता हैं|
  • ऐसी स्थिति में CA अपनी Fees चार्ज करते हैं जो कि फिक्स नहीं होती और हर CA की अलग अलग होती हैं|

GST Registration Status ट्रैक करें

  • Https://www.gst.gov.in/  ओपन करे|
  • जीएसटी होम पेज प्रदर्शित हो जायेगा।
  •  REGISTER NOW लिंक पर क्लिक करें।
  •  Temporary Reference Number (TRN) फ़ील्ड में, टीआरएन दर्ज करें।
  • PROCEED button क्लिक करें।
  •  मोबाइल / ईमेल OTP फ़ील्ड में, आपको अपने मोबाइल नंबर और Email Address पर प्राप्त OTP दर्ज करें।
  • ओटीपी केवल 10 मिनट के लिए वैध है। PROCEED button क्लिक करें।
  • My Saved Application page प्रदर्शित होगा|
  • अब आपStatus Column के तहत Application की वर्तमान स्थिति की जांच कर सकते हैं।

GST Application Reference Number (ARN) जांच कैसे करें?

  •  आप www.gst.gov.in GST होम पेज पर जाएं।
  •  EXISTING USER LOGIN पर क्लिक करें।
  • अब आपके सामने Login page पेज खुलेगा|
  • यहाँ आपको अपना username औरpassword टाइप करना है |
  • फिर आपको यहाँ कॅप्टचा टाइप कर लॉगिन बटन कर क्लिक करना है।
  •  अब आपके सामने Welcome Page पेज खुलेगा|
  •  यहाँ Continue button पर क्लिक करना है।
  • आप की स्क्रीन पर Dashboard Display होगा |
  • अब आपको My Saved application command पर जाना है|
  • जहां आपको अपना My Application Status page पर ARN status of your Enrolment Application दिखाई देगा।

FAQ

Q –जीएसटी कब लागू हुआ था?
भारत में GST को पूर्ण रूप से 1 July 2017 में लागु किया गया.

जीएसटी वेबसाइट अथवा जीएसटी पोर्टल पर जीएसटी की रजिस्ट्रेशन एप्लीकेशन दाखिल करने के लिए कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है, और ना ही कोई ऑनलाइन पेमेंट करना होता है, यदि कोई व्यक्ति अपना जीएसटी

रजिस्ट्रेशन की एप्लीकेशन दाखिल करना चाहता है, तो वह स्वयं भी निशुल्क ऑनलाइन एप्लीकेशन को दाखिल कर सकता है।

आज हम ने सीखा

दोस्तों ये थी GST के बारे में पूरी जानकारी जहाँ पे हमने देखा की GST क्या है, gst का फूल फॉर्म (GST meaning and full form) क्या है, GST क्यों जरुरी है और इससे क्या लाभ हैं तथा साथ ही हमने ये भी देखा की GST कितने प्रकार के होते हैं (Types of gst in Hindi), GST के अलग अलग rate क्या हैं इत्यादी।

आपके हिसाब से GST लाना क्या उचित निर्णय है? क्या इससे लाभ हुवा है, निचे कमेंट में जरुर बताएं। जिस प्रकार हर सिक्के के दो पहलु होते हैं वैसे ही gst के कुछ लाभ हैं तो कुछ हानी भी हैं। अंत में मैं आपसे यही कहना चाहूँगा की अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर जरुर करें ताकि और लोग इसके बारे में जान सकें।

दोस्तों अगर आपको GST Registration करवाना हो नीचे दिए गए Number पर Call करके

आप हमसे भी करवा सकते है ।

Digital Markiting Service

WhatsApp 9958676204

Leave a Reply