You are currently viewing Google Algorithm Updates Kya Hai और कैसे काम करता है?

Google Algorithm Updates Kya Hai और कैसे काम करता है?

“ Google Algorithm Updates Kya Hai और कैसे काम करता है? “

hello दोस्तों आज के पोस्ट मे आपको Google Algorithm Updates Kya Hai और कैसे काम करता है? के बारे मे बताने वाले है। Google Algorithm Updates के बारे मे पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा जरूर पड़े।

Google Algorithm Kya Hai ?

Google Algorithm Kya Hai ? Google Algorithm एक SEO Process है, जो यूज़र्स के द्वारा सर्च की गई query के लिए रिजल्ट में आये web पेजों को रैंक करने के लिए उपयोग होता है । गूगल सर्च इंजन अपने Users के अनुभवों को और बेहतर बनाने के लिए समय समय पर regular बदलाव करते रहता है और ये बदलाव यानी कि Update Google Algorithm के अंतर्गत ही आता है। जब हम GOOGLE में कोई Keywords सर्च करते है और सर्च करने के बाद Google Page पर हमें जो हजारों की संख्या में रिजल्ट दिखते है और उसमें से कोई पहले स्थान पर तो कोई दूसरे स्थान पर यानी कि रैंक के हिसाब से परिणाम दिखता है, तो ये सब Google की Algorithm ही तय करती है कि Search Result में कौन से WebPage को सबसे ऊपर और किसको अंत मे दिखाना है। Algorithm Update की वजह से ही Google अपने सर्च इंजन से High Quality Content को सबसे पहले यानी की सबसे ऊपर और फिर low quality कंटेंट को सबसे निचे दिखाता है। गूगल अपनी एल्गोरिथ्म को समय समय पर हमेशा अपडेट करते रहता है। इसलिय कोई भी एक webpage या आर्टिकल पहले दूसरे या टॉप रैंक में नहीं रह सकता है। Google के Algorithm हमेशा टॉप पोजीशन webpage को किसी अच्छे और High Quality Updated कॉन्टेंट के साथ बदलता रहता है। गूगल किसी के लिए भी पहला या दूसरा स्थान रिज़र्व करके नही रखता। SERP (Search Engine Results Pages) में relevant webpages को उनके रैंक के अनुसार Show करने के लिए Search Engine बहुत से algorithm और ranking signal के combination का इस्तेमाल करता है। जिस से को यूज़र्स के द्वारा खोजे गए सवाल का सही जवाब उन्ही results page में मिल जाए और उनका सर्च एक्सपीरिएंस बहुत अच्छा हो। गूगल अपने Algorithm में प्रत्येक वर्ष हजारों Update करता है। अपडेट में नए नए फ़ीचर्स और कायदे कानून जोड़ते रहता है,लेकिन इसकी जानकारी आम लोगों तक नही पहुंच पाती।

Google Algorithm काम कैसे करता है?

Google ने अपने Search Ranking System को इस प्रकार Design किया है की वो लाखो एक जैसे Information देने वाली Websites में से भी Best और Most Relevant Result दिखता है. इसके लिए Google अपने Algorithms का यूज़ करता है. ये काम कोई एक Algorithm नही करता बल्कि इसके लिए बहुत सारे Algorithms मिल कर काम करते है, इसके लिए वो बहुत से Factors का यूज़ करते है.

जिनमे से हम 5 Major Factors के बारे में पढेंगे जिसके बारे में Google ने Officially बताया है.

1. Search Query का Meaning

Relevant Result दिखने के लिए google को ये समझना होता है की User क्या Search कर रहा है और उसका Search Intent (मकसद) क्या है. इसके लिए google Query को कुछ Factors पर Analysis करता है और Query को समझने की कोशिश करता है ताकि वो बेस्ट रिजल्ट दिखा सके.

  • Words की Meaning– Natural Language में User के Query का मतलब क्या है.
  • Query का Search Intent– यूजर Query करके क्या ढूँढना चाहता है Search Engine उसके Search Intent को समझने की कोशिश करता है.
  • Content की Freshness– Query के रिजल्ट में फ्रेश इनफार्मेशन दिखानी है या बेस्ट Match रिजल्ट दिखाना है

2. Pages की Relevancy

Search Engine यूजर की Search Query के लिए Most Relevant Pages ढूंढता है. अगर आसान भाषा में समझे तो Search Engine उन Pages को ढूंढते है जो Search Query का बेस्ट Answer देते है.

ऐसा करने के लिए Search Engine Internet पर मौजूद सभी Websites को रेगुलर Crawling और Indexing करते है ताकि नयी और फ्रेश कंटेंट को रिजल्ट्स में शामिल किया जा सके.

3. Content की Quality

Internet पर हर Query के लिए लाखो Pages बने हुए है, इसलिए Search Engine उन Pages को Priority देता है जिसके Content की Quality और User Experience बेस्ट होती है. Google निम्नलिखित पॉइंट्स की मदद से कंटेंट को Priority देता है.

  • Expertise
  • Authoritativeness
  • Trustworthiness

4. Pages की Usability

Google वेबसाइट को Usability और User-Friendliness के आधार पर चेक करता है इसके लिए वो कुछ Technical Aspects को ध्यान में रखता है.

  • Page की responsiveness
  • सभी Browsers में Correct appearance
  • Page की Loading speed
  • Website की Security

5. Context और Settings

Google अपने Search Results को और भी बहुत से Factors के हिसाब से दिखता है जैसे,

  • User की Location
  • Searches की History
  • Search settings

हमें उम्मीद है की आप समझ गये होंगे की Google Algorithm काम कैसे करता है अब Google Algorithm Updates Hindi में देखते है.

Important Google Updates in Hindi

जैसे की मैंने पहले भी कहा है की Google के तो बहुत से नए और पुराने updates हैं लेकिन उनमें से कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण हैं तो आज हम उन्ही के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं.

  1. GooglePanda
  2. GooglePenguin
  3. GoogleHumming Bird

उनके मुख्य काम क्या है?

  1. Google Panda update algorithm का एक ख़ास हिस्सा है जो की मुख्य रूप से Content की Quality पर ज्यादा ध्यान देता है.
  2. Google Penguin update मुख्य रूप से Links की quality पर ज्यादा ध्यान देता है.
  3. Google Hummingbird update मुख्य रूप से conversational search queries को सही तरीके से accurately handle करने में ज्यादा ध्यान देता है.
  • Google Panda Update क्या है?

Google Panda आपके site के content पर ज्यादा ध्यान देता है जब वो sites को Google के search results पर rank करता है. इसलिए जिन blogs या sites में lower quality content ज्यादा हैं, उनके लिए Google Panda Update बहुत ख़राब impact डाली होगी। इस Panda update को सबसे पहली बार February 23, 2011 में introduce किया गया. इसके चलते higher quality content को ज्यादा अहेमियत दी गयी और उन्हें Search Results में पूरा ऊपर स्थान दिया गया वहीँ low quality content को पीछे ढकेल दिया गया. जब Panda originally launch किया गया तब ये देखने को मिला की इस बार ये content farms को specifically target कर रहा था, जो की search result में एक बहुत बड़ा problem बन चूका था, क्यूंकि इनकी low quality content होने की वाबजूद ये केवल ज्यादा volume होने के कारण search result में ऊपर दिखाई पड़ते थे. ये sites कोई भी article publish करने के पहले कोई भी research नहीं करते थे और बहुत ही कम समय में बहुत सारे low-quality को publish करते थे. इसलिए कोई भी user कुछ भी search करे तब वो इन्ही के pages में ही आता था और उसे कोई भी information नहीं मिल पाती थी. ख़ास इसी कारण ही Google ने इस Panda update को अपने core algorithm का हिस्सा बना डाला है. अभी जो भी नयी update आती है उसे इस core algorithm में update कर दिया जाता है.

Google Panda से कोन ज्यादा प्रभावित हुए

  • Thin Content:  इस update से जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुए वो जिनकी content में ज्यादा value ही नहीं थी. ऐसे में इन्हें अच्छे content के मुकाबले निचे कर दिया गया. ऐसे content को ज्यादा अहमियत दी गयी जो की users को ज्यादा value प्रदान करते हैं.
  • Low Quality Content:  जो Sites में अच्छी quality नहीं होती है जैसे की content का अच्छा न होना, gramatical और spelling mistakes होना, सही format न होना, page navigation ठीक न होना, image की relevancy न होना इत्यादि. ऐसे में users को बहुत परेसान होना होता है.
  • Unhelpful content का होना :  ऐसे contents जो की readers के लिए कोई भी काम के नहीं है उन्हें google महत्व नहीं देता है.
  • Duplicate Text:  बहुत बार होता है की कई bloggers दूसरों के content को copy कर लेते हैं उन्हें credit भी नहीं देते हैं, ऐसे में उन्हें duplicate text का करार दिया जाता है. ये भी Panda update का शिकार होते हैं.
  • Article Spinning:  कई बार bloggers Duplicate content से बचने के चक्कर में Content में थोड़ी बहुत हेर फेर करते हैं उसे अपने blog post में publish करने की कोशिश भी. ये भी Panda update के अनुसार सही नहीं है.

Google Panda update से अपने site को Recover कैसे करें

अगर आप भी google के panda update का शिकार हैं तब आपको ऊपर बताए गए points का ख़ास ख्याल रखना पड़ेगा. इसके साथ अगर आपके ऐसे कोई contents हैं तब उन्हें delete करना पड़ेगा, या फिर अगर low quality content हैं तब उन्हें edit करके सही करना पड़ेगा.

  • Google Penguin Update क्या है?

दूसरा सबसे बड़ा जो Google algorithm में आया था वो है Google Penguin Update in Hindi. इस update का मुख्य उद्देश्य link quality और quantity को check करना है। इस Penguin update को सबसे पहली बार April 24, 2012 में introduce किया गया. Sites जिन्होंने की links की खरीदारी करी है या उनके blog में low-quality links मेह्जुद हैं जो की low-quality directories, blog spam, या link badges से आये हैं तब उन्हें Penguin update का सामना करना पड़ा होगा, जिसके चलते उनके sites और google में rank नहीं हुए होंगे. ज्यादातर sites को इस update को लेकर चिंता नहीं होगी, अगर उन्होंने ऐसे कोई तरीके का इस्तमाल अपने Site में backlinks के लिए अगर नहीं किया होगा. या फिर कोई ऐसे SEO expert को नहीं hire किया होगा जो की ऐसे tactics को follow करता हो. इसलिए आपके न चाहते हुए भी आपको इन सब से परेशानी हुई होगी, इसलिए कोई भी SEO consultant और SEO agency को hiring करने से पहले उनके विषय में जरुर research करें. अगर आपने past में ऐसे link building tactics का इस्तमाल किया हुआ होगा जो की उस समय acceptable थे पर अब नहीं तब आपको Penguin update से जरुर नुकशान हुआ होगा.

एक उदहारण के लिए, guest blogging कुछ वर्षो पहले ठीक था, लेकिन अब उसमें भी कुछ बदलाव आये हैं जैसे आपको link build करने के लिए सही Sites का चुनाव करना चाहिए जो की आपसे similar हो.

Google Penguin से कोन ज्यादा प्रभावित हुए

  • Buying Links:  अगर आप अपने site के ranking के चक्कर में links बहार से खरीदते हैं तो ये Google webmaster guidelines का सरासर उलंगन है क्यूंकि आप कभी भी किसी को पैसे देकर link नहीं ले सकते हैं.
  • Different Anchor Text का होना :  जो link हम text me add करते हैं उन्हें anchor text कहा जाता है, ऐसे में अगर आपके blog पर जितनी भी text link refer हो रही है और वो सारे अगर समान anchor text से ही आ रही है तब इससे ranking पर जरुर असर पड़ेगा, और ऐसा करना बिलकुल भी ठीक नहीं है.
  • Low Quality links:  अगर आपको कही से link आ रहा है और उसका content quality बहुत ही low है तब ऐसे में आपके blog के ऊपर इसका negative असर पड़ सकता है.
  • Keyword Stuffing:  ये बहुत ही आसान तरीका है keyword rank करने का जिसमें आपको अपने Article में targeted Keyword का बार बार इस्तमाल करना होता है. इसी process को Keyword Stuffing कहते हैं.

Penguin update के पूरा खिलाप है और ऐसा करना आपके लिए बाद में भारी पड़ सकता है. इसलिए आपको keyword density के विषय में जानकारी होना बहुत जरुरी है.

Google Penguin Update से अपने site को Recover कैसे करें

इस Update से अगर आपके Blog को बचाना तब आपको अपने blog से ऐसे low quality links को पूरी तरह से remove करना होगा. ऐसा करने के लिए आपको Google Search Console में ऐसे links को Disavow करना होगा.

  • Google Hummingbird Update क्या है?

तीसरा जो सबसे important update है वो है Google Hummingbird Update. ये भी main Google search algorithm का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है और एक बहुत बड़ा बदलाव रहा है algorithm का सन 2001 से. Hummingbird Update in Hindi को जो सबसे अलग करता है वो ये नहीं की ये केवल specifically एक spam targeting algorithm ही है, बल्कि ये एक ऐसा algorithm जो की ये ensure करता है की specific queries का हमेशा best results ही show करे. Hummingbird का मुख्य उद्देश्य ही है की वो users के search queries को बेहतर समझे, इसके साथ ये conversational search पर ज्यादा ध्यान देता है.

Note :- Conversational Search उस search को कहा जाता है जहाँ आपका Search engine आपके द्वारा लिखी गयी queries को खुद ही पूर्ण कर देता है. यानि की आपको उस queries से सम्बंधित suggestion प्रदान करता है जिन्हें की लोग अक्सर search करते हैं.

इसके निर्माताओं का ये मानना है की Hummingbird का उन प्रकार के sites पर ज्यादा अच्छा impact है जो की high-quality content प्रदान करते हैं और searcher को उनके सवालों का सही जवाब या results प्रदान करते हैं. इससे user experience भी काफी अच्छा होता है. इसके साथ Hummingbird long-tailed search queries पर भी अच्छा impact डालता है और उन्हें search result में higher rank करता है. ऐसा इसलिए क्यूंकि Google ये चाहता है की वो हमेशा long queries के लिए high-quality results प्रदान करे. उदहारण के तोर पर अगर आप किसी चीज़ के विषय में जानना चाहें तब वो company के homepage को show नहीं करता बल्कि उस चीज़ से सम्बंधित अगर कोई internal page है जहाँ की उसके विषय में ज्यादा जानकारी है तब वो search result में उसे show करेगा.

Hummingbird Update ये ख़ास ध्यान रखता है की Longer search queries, जैसे की हम voice search में देखते हैं, और उसी प्रकार के queries जिन्हें की searchers अपने mobile में करना पसंद करते हैं, इन्हें वो conversational search में ज्यादातर highlight करते हैं. Researchers का कहना है की conversational search को optimize करना बहुत ही आसान है, ऐसे में अगर आपका content बहुत ही ज्यादा readable है और वो सारे long tail queries या short tail queries का सही तरीके से answer प्रदान करता है तब आपके content के लिए तो hummingbird update एक वरदान साबित होगा। ये बात किसी को भी नहीं पता है की Hummingbird Update को Google कब change करता है और कब update करता है। इसलिए अगर आप चाहते हैं की आपके Contents पर Hummingbird Upadate का positive असर पड़े तब आपको अपने content को Conversational search के अनुसार optimize करना होगा जिससे की ये Search Results में ऊपर में show करेंगे. इसके लिए आप Google के auto suggestion feature का help ले सकते हैं।

अगर आपकी वेबसाइट पर Google Algorithm Update का Negative Effect होता है तो क्या करें?

  • Be patient  Core Updates को Roll Out होने में कुछ दिन का समय लगता है. इसलिए तुरंत कोई एक्शन न ले.
  • Trusted sources पर ही भरोसा करे Internet पर किसी पर भी आंख मूंद कर भरोसा न करे. केवल 100% Verified और Experts पर हे भरोसा करे. इसके लिए आप Moz या searchenginejournal पर चेक कर सकते है.
  • क्या सच में आपको कुछ fix करने की ज़रूरत है– कभी कभी आपको कुछ time इंतज़ार करना चाहिए क्युकी ये Updates किसी Website को Target करने की लिए नही बल्कि Search Result को Improve करने के लिए लाये जाते है. कई बार कुछ हफ्तों के बाद Ranking अपने आप ठीक हो जाती है.
  • Improve अगर कुछ समय इंतज़ार करने के बाद अगर आपको लगता है की आपकी वेबसाइट में ही कोई Problem है तो उस प्रॉब्लम को Identify करके उसे Fix करना चाहिए.

Google Algorithm में होने वाला है बड़ा बदलाव, जानें क्या होगा नया

Google अपने एल्गोरिथम में बहुत जल्द काफी बड़े बदलाव करने वाला है. इस बदलाव के आने के बाद अब गूगल पर लिखे गए कंटेंट यूजर्स पर केंद्रित होंगे न कि SEO पर. बता दें अपडेट के बाद केवल उन्हीं कंटेंट को बढ़ावा मिलेगा जो कि प्रामाणिक है और रीडर्स के इंटरेस्ट पर केंद्रित है.

Google Algorithm Update: गूगल ने आने वाले हफ्ते में अपने एल्गोरिथम में बड़े बदलाव करने की घोषणा की है. इस अपडेट को Helpful Content का नाम दिया गया है. इस अपडेट का मुख्य उद्देश्य यूजर्स के लिए लिखे गए लेखों को बढ़ावा देना है हुए इसके साथ ही SEO पर केंद्रित लेखों के मूल्यों में कमी करना है. हाल के प्रोडक्ट रिव्यु अपडेट के विपरीत, जो विशिष्ट प्रकार के पृष्ठों को लक्षित करता है, सहायक सामग्री अपडेट साइटव्यापी है. इसका मतलब है कि इसमें सभी पृष्ठों को प्रभावित करने की क्षमता मौजूद है. Helpful content अद्यतन एक नया संकेत भी प्रस्तुत करता है जिसका उपयोग Google वेब पेजों को Google में रैंक करने के लिए किया जाएगा. हालांकि, Google इन एल्गोरिथम बदलावों के बारे में जानकारी दे रहा है, लेकिन, तैयारी के लिए एक सप्ताह लंबा समय नहीं है. बता दें, कोई यह तर्क दे सकता है कि सभी साइटों को पहले स्थान पर मनुष्यों के लिए लिखा जाना चाहिए.

Google ने Twitter पर दी जानकारी

गूगल ने अपने ट्वीट में लिखा “अगले हफ्ते, हम Helpful Content Update लॉन्च करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लोगों को मुख्य रूप से सर्च इंजन ट्रैफिक के लिए बनाई गई सामग्री के बजाय लोगों द्वारा लिखी गई अधिक मूल, उपयोगी कंटेंट दिखाई दे.”

Helpful Content Update कैसे करता है काम

Google Algorithm का यह नया अपडेट उन सभी साइट्स पर बुरा प्रभाव डालेगा जिनपर भारी मात्रा में सामग्री मौजूद हैं लेकिन, वह किसी के भी काम की नहीं है, यह उस पर मौजूद सामग्री की वैल्यू बहुत ही कम है. यह अपडेट उन सभी साइट्स पर नजर रखेगा जिनमें मौजूद सामग्री किसी भी यूजर के लिए काम की साबित नहीं होगी.

Google Helpful Content से जुड़ी कुछ खास बातें

  • Google का यह नया अपडेट मैन्युअल नहीं है बल्कि मशीन लर्निंग द्वारा स्वचालित किया जाता है.
  • अगर किसी भी साइट पर भारी मात्रा में बिना काम की सामग्री पड़ी हो फिर भी अगर एक भी काम की सामग्री होगी तब भी वह Google पर रैंक कर सकेगी.
  • इस अपडेट के आने के बाद केवल इंग्लिश साइट्स पर इसका असर पड़ेगा. बाकी कसी भी भाषा की साइट पर इसका फिलहाल कोई असर नहीं देखा जा सकेगा

यह लेख भी पढ़ें –

आज हम ने सीखा

तो दोस्तों मेने आपको इस artical मे मेने Google Algorithm Updates Kya Hai? और कैसे काम करता है?के बारे मे बताया है।अगर आपको ये artical अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें |

“ Google Algorithm Updates Kya Hai और कैसे काम करता है? “

 

 

Leave a Reply