एसएमपीएस प्राइस ; SMPS Full form ; SMPS Kya Hai ; SMPS use ; Smps diagram ; SMPS power supply details ; SMPS in english ; SMPS Full Form in Computer price ; SMPS Kya Hai in Hindi ; SMPS Working in Hindi ; SMPS uses ; SMPS Full Form in Computer price ; What is SMPS in computer ; SMPS power supply details ; SMPS working ; एसएमपीएस प्राइस ; SMPS uses ; SMPS Kya Hai in Hindi ; Smps क्या है ; SMPS working ; SMPS power supply details ; SMPS Full Form in Computer price ; पावर सप्लाई किसे कहते हैं ; SMPS in english ; cpu computer ; cpu price ; cpu full form ; cpu function ; cpu components ; cpu definition and function ; cpu kya hai in english ; cpu ka full form ; सीपीयू के कितने भाग होते हैं ; cpu विकिपीडिया ; सीपीयू के पार्ट्स ; सीपीयू का चित्र ; सीपीयू का क्या कार्य है ; cpu definition ; ups full form ; alu full form ; pc full form ; ram full form ; computer full form ; gpu full form ; cpu full form in computer price ; cpu full form in hindi
Spread the love

CPU Kya Hai Aur Kaise Kam Karta Hai? Hello दोस्तों आपका हमारी Website पर सुवागत है आज हम आपको CPU क्या है और कैसे काम करता है? के बारे मे बताने वाले है। तो दोस्तों अगर आप CPU Kya Hai Aur Kaise Kam Karta Hai? के बारे मे जानना चाहते है तो आप इस Artical को पूरा जरूर पड़े |



CPU Kya Hai | सीपीयू क्या है

सीपीयू (CPU) जिसे कि Central Processing Unit कहा जाता है यह कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है जो कि Input को Process करके Result को Output के रूप में दिखाता है। CPU को प्रोसेसर या माइक्रोप्रोसेसर भी कहते हैं। CPU को कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है क्योकि यह कंप्यूटर के सभी डिवाइस मेमोरी, इनपुट डिवाइस, आउटपुट डिवाइस, Arithmetic, Logical को नियंत्रित करता है। 

CPUs को कुछ इसप्रकार से बनाया जाता है की जहाँ billions की मात्रा में microscopic transistors को एक single computer chip में रखा जा सके। यही transistors की मदद से ही सभी calculations को किया जाता है जिनकी जरुरत programs को run करने के लिए किया जाता है जो की system के memory में store होते हैं। CPU को इसीलिए computer का brain भी कहा जाता है

क्यूंकि – सभी instruction, चाहे वो कितना भी simple क्यूँ न हो, सभी को CPU के माध्यम से ही जाना होता है। उदहारण के लिए आपको कोई alphabet type करते हैं जैसे की L तब ये Screen में appear होता है। इसे screen में appear होने में CPU का हाथ होता है। CPU क्या है और कैसे काम करता है?



इसी कारण CPU को central processor unit के नाम से भी refer किया जाता है, और short में इसे processor कहा जाता है। इसलिए जब आप कोई electronic store में कोई device का technical specification देख रहे होते हैं तब वहां पर जो processor specification होता है वो ही CPU है। जब हम CPU के अलग अलग प्रकार के बारे में discus करते हैं

तब इससे हमारा तात्पर्य उसके speed से रहता है। जैसे की वो कितनी जल्दी सभी function को पूर्ण करता है। हमें अपने काम करने में speed की ही जरुरत होती है, जितनी जल्दी हमारे काम की processing होगी उतनी ही जल्दी हम कोई नया काम को आसानी से कर सकते हैं।

जैसे जैसे हमारे instruction complex बनते हैं जैसे की 3D animation, video files की editing इत्यादि ऐसे में हमें ज्यादा बेहतर CPU की जरुरत होती है। इसलिए processor technology में जो भी technological advances हुए है वो सभी के पीछे speed ही सबसे महत्वपूर्ण कारण रहा है।

History of CPU in Hindi | सीपीयू का इतिहास

आज कंप्यूटर हमारी रोजमर्रा जिंदगी का एक हिस्सा है, लेकिन सबसे पहले उपयोग किया जाने वाला कंप्यूटर अमेरिका के पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में 1946 में विकसित किया गया था। इसमें ENIAC (Electronic Numerical Integrator And Computer) का प्रोसेसर लगा था। रीप्रोग्रामिंग फीचर जो आज इतने व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है,

 Alan Turing और John von Neumann ने अपनी टीमों के साथ इसे पेश किया था। John von Neumann के CPU आर्किटेक्चर आज आधुनिक कंप्यूटरों का आधार है। Central Processing Unit (CPU) के विकास से कंप्यूटर के संचालन का तरीका आज बदल गया है, आज कंप्यूटर छोटा होगया है,




कंप्यूटर सस्ता होते जा रहा है, कंप्यूटर अधिक शक्तिशाली होगया है और कंप्यूटर की उच्च तकनीकों का उपयोग करने वाले कंप्यूटर उपयोगकर्ता के लिए आज अधिक कुशल होगया है। आजकल, सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट की पांच पीढ़ी से परिचित होंगे जो की सीपीयू का इतिहास है

जैसे कि वैक्यूम ट्यूबट्रांजिस्टरइंटीग्रेटेड सर्किटमाइक्रोप्रोसेसर और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इस तरह से CPU का विकास हुआ है। CPU क्या है और कैसे काम करता है?

सीपीयू कैसे काम करता है?

कंप्यूटर की पावर और कार्यक्ष्यमता को निर्धारित करने में CPU एक बड़ी भूमिका निभाता है। माइक्रोप्रोसेसरों की हर एक नई पीढ़ी में एक अधिक शक्तिशाली CPU बाजार में पेश होता है , जो पिछली पीढ़ी की तुलना में निर्देशों को अधिक तेज़ी से निष्पादित करने की क्षमता है। एक CPU के कार्यप्रणाली को तीन चरणों वाली प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया जाता है।

सबसे पहले, मेमोरी से एक निर्देश Fetch किया जाता है। दूसरा, निर्देश को Decode किया जाता है और CPU यह पता लगाता है कि उसे कौन से निर्देश पर काम करने के लिए कहा जा रहा है। तीसरा, निर्देश को एक्सक्यूट करता है और एक ऑपरेशन किया जाता है। ये तीन स्टेप्स में एक चक्र में दोहराते हैं जो CPU के साथ अगला निर्देश लाने के साथ फिर से शुरू हो जाता है।




इन चरणों को CPU के instruction cycle के रूप में जाना जाता है। सीपीयू एक प्रोग्राम काउंटर का उपयोग करता है जिससे यह पता लगाया जा सके कि कौन से इंस्ट्रक्शन को आगे लाना है। काउंटर मेमोरी लोकेशन का एड्रेस होता है जिसमें निष्पादित होने वाला अगला इंस्ट्रक्शन होता है।

इसे एक रजिस्टर में सीपीयू द्वारा स्टोर किया जाता है, जो सीपीयू में ही एक समर्पित मेमोरी लोकेशन होता है। Instruction cycle में प्रत्येक fetch के बाद अगले निर्देश को पॉइंट करने के लिए प्रोग्राम काउंटर को बढ़ाया जाता है। CPU क्या है और कैसे काम करता है?

Read More :- 

Part of CPU In Hindi | सीपीयू के कितने भाग होते हैं 

सीपीयू अपना काम तीन मुख्य भाग की सहायता से करता है।

  1. Memory
  2. Control Unit (CU)
  3. ALU (Arithmetic Logic Unit)

1. Memory

इसमें कंप्यूटर का डाटा स्टोर रहता है इसे Internal Memory या Main Memory भी कहा जाता है। इसमें सीपीयू द्वारा प्रोसेसिंग किए गए सभी डाटा और इंस्ट्रक्शंस Store रहते हैं। इसमें स्टोर हुआ डाटा यूजर कभी भी इस्तेमाल कर सकता है। जिस मेमोरी में इनपुट डाटा रखा जाता है उसे Primary Memory कहा जाता है और जिस मेमोरी में आउटपुट डाटा भेजा जाता है उसे Secondary Memory कहते हैं।

2. Control Unit

कंट्रोल यूनिट द्वारा कंप्यूटर के सभी ऑपरेशन Control किए जाते हैं इससे CU भी बोला जाता है। यह मेमोरी लॉजिकल यूनिट इनपुट और आउटपुट डिवाइसेज के साथ डाटा ट्रांसफर के लिए Communicate करता है। इसमें किसी तरह का प्रोसेस नहीं होता इसमें सिर्फ ऑपरेशन को कंट्रोल किया जाता है। कंट्रोल यूनिट मेमोरी से निर्देश प्राप्त करता है और उसे Decode करके Central Processor को भेज देता है।

3. ALU

ALU सीपीयू का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है इसमें गणितीय प्रक्रिया होती है। ALU की फुल फॉर्म Arithmetic Logic Unit होती है। इस यूनिट में दो तरह के काम होते हैं पहला Arithmetic और दूसरा Logic. अर्थमैटिक सेक्शन में सभी तरह के अर्थमैटिक ऑपरेशंस जैसे Addition, Substraction, Multiplication और Division परफॉर्म होते हैं। लॉजिक सेक्शन में लॉजिक ऑपरेशंस जैसे Comparing, Selecting और Matching परफॉर्म होती हैं।

Types Of CPU In Hindi | सीपीयू के प्रकार

सीपीयू के प्रकारों को उनकी विशेषताओं और उनकी कार्य करने की क्षमताओं के आधार पर विभाजित किया जाता हैं। जिसका अर्थ हैं जिस सीपीयू के कार्य करने की गति तीव्र होगी। वह कंप्यूटर अधिक कार्य क्षमता युक्त और महँगा होगा।

उसकी Processing Capacity उतनी अधिक होगी। हम बात करें अगर आपके पास 3.0 GHz की गति से काम करने वाला CPU हैं। तो वह एक सेकंड में 3 बिलियन तक निर्देशों (Input) को Process कर सकता हैं। एक कंप्यूटर किसी भी Software या Application को कितनी जल्दी RUN करा पाता हैं यह उसकी सीपीयू की क्षमता और प्रोसेस करने की गति पर निर्भर करता हैं।




अगर आप किसी कंप्यूटर को Assemble करके खरीदते हैं तो वह मूल्य में आपको कम पड़ता हैं क्योंकि उसकी सीपीयू क्षमता और गति कम होती हैं। आप ऐसे कंप्यूटर में अधिक प्रोसेस वाली एप्पलीकेशन को रन नहीं करा पाते। सीपीयू को मुख्यतः निम्न भागों में विभाजित किया जाता हैं-

1. Single Core CPU 

यह सीपीयू के विकास के प्रथम पीढ़ी के सीपीयू हैं। जिनका उपयोग सर्वप्रथम कंप्यूटर में किया गया था। इस प्रकार के सीपीयू के कार्य करने की क्षमता कम और धीमी हुआ करती थी। इस प्रकार के सीपीयू में एक समय मे किसी एक कार्य को पूरा करने में भी सक्षम थे।

जिस कारण इन्हें Single Core CPU कहा जाता हैं। यह Multitasking का कार्य नहीं कर पाते थे। इसके साथ ही इन प्रोसेसर की Clock-speed बहुत कम थी। जिस कारण इनके प्रदर्शन और कार्य करने की क्षमता काफी धीमी थी।

2. Dual Core CPU

जब आप कभी इंटरनेट में स्मार्टफोन देखते हैं तो उसमें उस फ़ोन की Specification में आपने Dual Core लिखा हुआ देखा होगा। जिसके मतलब होता हैं उस फ़ोन की प्रोसेसर सहमत दो हैं। यह Single Core की तुलना में अधिक तीव्र और महँगे होते हैं। इस प्रकार के सीपीयू एक समय मे एक से अधिक कार्यों को पूरा करने में सक्षम होते हैं।

इस प्रकार का जो सीपीयू होता हैं उसमें चिप पर दो कोर होते हैं जिस कारण इसे Dual Core CPU कहा जाता हैं। इस प्रकार के सीपीयू की Clock-speed भी अधिक होती हैं। जो इसकी कार्य क्षमता और प्रोसेस करने की गति में तेजी लाने का कार्य करता हैं।

3. Quad Core CPU

यह सामान्यतः 4 कोर को इंगित करने वाला सीपीयू होता हैं। यह ऊपर बताये गए दो सीपीयू के प्रकारों से अधिक Multitasking के कार्य करने में सक्षम होता हैं। इसमें मौजूद चार कोर एक साथ काम करते हैं। जिस कारण इनमें किसी बड़ी एप्पलीकेशन को रन कराना आसान होता हैं। इस प्रकार के सीपीयू का अधिक उपयोग Gaming, Editing और Designing आदि कामो के लिए किया जाता हैं।

इनके साथ ही सीपीयू के अन्य 3 प्रकार भी होते हैं जिनकी कार्य क्षमता और गति तीव्र होती हैं। जिनका उपयोग बड़े-बड़े क्षेत्रों में अधिक क्षमता से कार्य करने के लिए किया जाता हैं। जैसे- Hexa Core CPU, Octa Core CPU और Deca Core CPU



What Is Clock Speed Of Processor? | प्रोसेसर की क्लॉक स्पीड क्या है? 

CPU clock speed को processor speed या clock rate भी कहा जाता है। Clock speed दर्शाता है कि माइक्रोप्रोसेसर प्रति सेकंड कितने निर्देशों को निष्पादित (execute) करता है। इसमें clock speed को MHz या GHz में मापा जाता है।

1 मेगाहर्ट्ज (MHz) प्रति सेकंड 1 मिलियन चक्रों (1 million cycles per second) को दर्शाता है और 1 गीगाहर्ट्ज (GHz) प्रति सेकंड 1 हजार मिलियन चक्रों (1 thousand million cycles per second) को दर्शाता है। CPU की गति जितनी अधिक होगी कंप्यूटर उतना बेहतर कार्य करता है। कंप्यूटर की गति ओर बेहतर बनाने के लिए अन्य घटक जैसे RAM, हार्ड ड्राइव, मदरबोर्ड और प्रोसेसर कोर की संख्या (जैसे, dual-core or quad-core) की आवश्यकता होती है। CPU क्या है और कैसे काम करता है?

CPU Cores क्या है? Types Of CPU In Hindi 

सीपीयू में ऑपरेशन को प्रोसेस करने के लिए कम से कम एक Processor होता है। इस प्रोसेसर को ही Processing Cores कहते हैं। पहले Singal Processor का ही इस्तेमाल किया जाता था लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस होती गई सीपीयू को भी अपग्रेड करके Multi-Core Processor बना दिया गया। एक सीपीयू में एक से ज्यादा प्रोसेसर्स हो सकते हैं सीपीयू कई प्रकार के होते हैं जिन्हें उनके प्रोसेसर की संख्याओं के आधार पर नामांकन किया गया है।

1. Dual-Core

जिस सीपीयू में दो Processors होते हैं उसे Dual-Core प्रोसेसर कहते हैं। इसमें एक से अधिक ऑपरेशन को परफॉर्म करने की क्षमता होती है। यह प्रोसेसर Quad-Core से सस्ते और धीमी होते हैं।

2. Quad-Core

जो सीपीयू चार Processors से मिलकर बना होता है उसे Quad-Core प्रोसेसर कहते हैं। यह Dual-Core प्रोसेसर से दुगना Strong और तेज होता है। इस प्रोसेसर के द्वारा Multitasking काम को भी आसानी से किया जा सकता है। यह किसी भी ऑपरेशन को काफी फास्ट बनाता है।

3. Hexa-Core

जिस सीपीयू में 6 प्रोसेसर होते हैं उसे हेक्सा कोर प्रोसेसर कहा जाता है। यह क्वॉड कोर की तुलना में काफी फास्ट होते हैं जो किसी भी ऑपरेशन को आसानी से हैंडल कर सकते हैं।

4. Octa-Core

जिस सीपीयू में 8 प्रोसेसर होते हैं उसे ऑक्टा कोर प्रोसेसर कहा जाता है। इंटेल i7 प्रोसेसर श्रृंखला के 9th Generation के बाद के प्रोसेसर इस श्रेणी में आते हैं।




आज हम ने सीखा

तो दोस्तों मेने आपको इस artical मे मेने CPU Kya Hai Aur Kaise Kam Karta Hai? के बारे मे बताया है।अगर आपको ये artical अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें |

“ CPU Kya Hai Aur Kaise Kam Karta Hai? ”

Similar Posts

One Comment

  1. Reading your article has greatly helped me, and I agree with you. But I still have some questions. Can you help me? I will pay attention to your answer. thank you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *